Monday, November 19, 2012

सजग रहे जो दुःख से छूटे


अक्टूबर २००३ 
हर तरह की वेदना से मुक्ति के उपाय की खोज, बोधि तथा समाधि की प्राप्ति साधक का लक्ष्य है. उपाय की खोज ही बोधि है. चित्त की निर्मलता ही समाधि है. अपनी भूलों पर वेदना होती है तो हमारी सजगता बढ़ती है. दुःख हमें सिखाता है, क्रोध, मोह, प्रमाद, आलस्य हमारे ताप को बढ़ाते हैं. सजगता ही जिसकी एकमात्र औषधि  है. थोड़ी सी भी असावधानी हमें वेदना देती है वही वेदना फिर सजग करती है. वाणी का संयम नहीं सधता तो मुख से कठोर शब्द निकल जाते हैं. जिह्वा का संयम नहीं सधता तो हम अखाद्य भी खा लेते हैं. मन का संयम नहीं रहा तो व्यर्थ का चिंतन चलता रहता है. मन जब खाली हो तो सुमिरन स्वतः होता है जबकि चिंतन बलपूर्वक करना होता है. हमारा हृदय इतना शुद्ध हो कि वहाँ नित्य सुमिरन चलता रहे, यही समाधि है.

5 comments:

  1. समाधि अवस्था का बेहतरीन चित्रण .सुन्दर विचार बोधि सत्व से .

    ReplyDelete
  2. हमारा हृदय इतना शुद्ध हो कि वहाँ नित्य सुमिरन चलता रहे, यही समाधि है.
    बहुत सही

    ReplyDelete
  3. अपनी भूलों पर वेदना होती है तो हमारी सजगता बढ़ती है.,
    ज्ञानवर्धक सुंदर प्रस्तुति,,

    recent post...: अपने साये में जीने दो.

    ReplyDelete
  4. वीरू भाई, सदा जी व धीरेन्द्र जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    ReplyDelete
  5. मन जब खाली हो तो सुमिरन स्वतः होता है जबकि चिंतन बलपूर्वक करना होता है.....बहुत ही सुन्दर ।

    ReplyDelete