Sunday, July 7, 2013

दुनिया रंग रंगीली माधो...

अक्तूबर २००४  
लोभ सूक्ष्म रूप से हम पर आक्रमण करता है, हम सोचते हैं कि निष्काम कर्म कर रहे हैं, अथवा तो सेवा कार्य कर रहे हैं, पर उसके मूल में लोभ ही होता है, सम्मान का लोभ, सुविधा का लोभ, अपनी नजरों में अच्छा बनने का लोभ. साधक को इसके जाल से बचना होगा. लोभ की हल्की सी रेखा मानस को दूषित कर  देती है. अपने मन का चैन गंवा कर यदि कोई कुछ पा भी ले तो व्यर्थ है, यह जगत एक स्वप्न है, इसकी अनुभूति हो जाने के बाद भी वह हमें भरमा लेता है, एक खिलौना दिखाकर जैसे हम बालक को भ्रमित कर देते हैं, उसी तरह. बाहर का सम्मान, लाभ हमारे भीतर के लोभ का ही मूर्त रूप है, वास्तव में बाहर जो भी हमारे साथ साथ घटता है, भीतर का प्रतिफलन ही है. जिस कार्य को किये बिना, जिस वाक्य को सोचे बिना, जिस जिस बात को बोले बिना हमारा काम चलता हो उसे न करना, न सोचना, न बोलना ही अच्छा है. अपने विवेक का आश्रय लेकर हर घटना से कुछ न कुछ सीखते हुए आगे बढ़ना है, ताकि अपना लक्ष्य और निकट आ जाये. वह जो निकट से भी निकटतम है, वही कभी दूर हो जाता है.

15 comments:

  1. बहुत सुंदर सीख देती प्रस्तुति ....

    RECENT POST: गुजारिश,

    ReplyDelete
  2. जिस कार्य को किये बिना, जिस वाक्य को सोचे बिना, जिस जिस बात को बोले बिना हमारा काम चलता हो उसे न करना, न सोचना, न बोलना ही अच्छा है....

    ReplyDelete
  3. सार्थक संदेश देती सुंदर पोस्ट
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. राहुल जी, महेंद्र जी व धीरेन्द्र जी आप सभी का स्वागत व आभार !

      Delete
  4. आपका कहना सही है पर मन इन सांसारिक बातों से परे रह पाए तब न ...
    सुविचार है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगम्बर जी, मन को यदि भीतर के रस का पता चल जाये तो अपने आप ही सब होने लगता है..

      Delete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ८ /७ /१ ३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेश जी, आभार!

      Delete
  6. बहुत काम की बातें बताई आपने. संयम से बडी कोई चीज नहीं. लिखते रहिये

    ReplyDelete
  7. सार्थक सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोहिन्दर जी व रमाकांत जी, स्वागत व आभार !

      Delete
  8. बड़ी गहरी व महीन बात बड़े ही सरल शब्दों में बयाँ हो गयी है।
    पर क्या लोभ और लालच एक ही शब्द के पर्याय है ?

    rohitasghorela@gmail.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. रोहितास जी, लोभ और लालच दोनों का अर्थ एक ही है.

      Delete

  9. जिस कार्य को किये बिना, जिस वाक्य को सोचे बिना, जिस जिस बात को बोले बिना हमारा काम चलता हो उसे न करना, न सोचना, न बोलना ही अच्छा है. अपने विवेक का आश्रय लेकर हर घटना से कुछ न कुछ सीखते हुए आगे बढ़ना है, ताकि अपना लक्ष्य और निकट आ जाये. वह जो निकट से भी निकटतम है, वही कभी दूर हो जाता है.

    सुन्दर

    सुन्दर से भी अति सुन्दर अनुकरणीय अंश है यह .

    ॐ शान्ति ॐ शान्ति

    ReplyDelete
  10. आभार वीरू भाई

    ReplyDelete