Monday, April 2, 2018

तमसो मा ज्योतिर्गमय


२ अप्रैल २०१८ 
जीवन हमें कुछ देना चाहता है, और हमारी झोली छोटी है. जीवन बंटना चाहता है और हमने सीमाएं बना ली हैं. जीवन सत्य है, अमृत है और प्रकाश है, हम असत्य, मृत्यु और अंधकार का वरण करके ही संतुष्ट हैं. हमारी झोली यदि पहले से ही भरी हो तो उसमें और क्या समाएगा, हमने यदि स्वयं को अपनी मान्यताओं और धारणाओं में ही कैद कर लिया हो तो यथार्थ का बोध हम क्योंकर कर पाएंगे. असतो मा सदगमय...के रूप में ऋषियों ने जो प्रार्थना वेदों में गाई है, वह हर आत्मा की भीतरी अभीप्सा है. हम आजतक जिसे जीवन मानते आये हैं, वह सुख-दुःख, जरा-मृत्यु और क्षुधा-तृष्णा के दायरों में ही सीमित है. मानव के द्वारा देह, मन और प्राण के अतिरिक्त अपने भीतर एक ऐसी स्थिति का अनुभव भी किया जा सकता है जिसमें होना मात्र ही पर्याप्त है, जो जीवन का स्रोत है. साधना का यही ध्येय है.

6 comments:

  1. माया से बाहर आ के ही इंसान देह और मोह से परे हो के आत्म निर्माण का सोच पाता है ...
    सुंदर लिखा है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा है आपने, माया के घेरे में बंधा मन आत्मा से वंचित ही रह जाता है

      Delete
  2. अंतर्घट को रीता करने के बाद ही वह आत्मबोध के लिए तैयार होगा... सुन्दर चिंतन

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत व आभार कैलाश जी !

      Delete
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व ऑटिज़्म जागरूकता दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार हर्षवर्धन जी !

      Delete