Sunday, April 15, 2012

आनंद हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है


फरवरी २००३
आत्मा का ज्ञान हमारे भीतर के कुसंस्कारों को उसी तरह जला कर समाप्त कर देता है जैसे कोई चिंगारी सूखी घास को. न जाने कब से हम कुछ खोज रहे हैं, अब हृदय में ज्ञान की प्यास जगी है, ईश्वर के प्रति प्रेम और भक्ति फलित हुई है. ज्ञान के दीपक के प्रकाश में बैठने का अवसर मिला है. मन को भी तो विश्राम चाहिए, मन की दौड़ जहाँ खत्म होती है वहीं से आध्यात्मिक लोक की शुरुआत होती है. जो हमारा वास्तविक घर है क्योंकि हम न देह हैं न मन, ये तो हमें प्रकृति द्वारा प्राप्त उपकरण हैं. हमारा वास्तविक रूप बुद्धि व अहंकार से परे एक आनंदमय सत्ता है, जो उस चिन्मय परमात्मा का अंश है. परमात्मा इस सृष्टि का कारण है, हमारा हितैषी है, सुह्रद है. जब तक हम देहात्म भाव से मुक्त नहीं हो पाते तो इस आनंद से वंचित रहते हैं जो हमारा अधिकार है. आत्मस्वरूप में टिकते ही अंतर में प्रेम का अनवरत प्रवाह होता है, तृप्ति का अनुभव होता है,विचारों के प्रति सजगता बढ़ती है सरलता और सहजता हमारा स्वभाव बन जाता है.

6 comments:

  1. हृदय में ज्ञान की प्यास जगी है,
    ईश्वर के प्रति प्रेम और भक्ति फलित हुई
    ek shashwat satya.

    ReplyDelete
  2. आनंद ही स्वतंत्रता है

    ReplyDelete
  3. आत्म-दीया यूँ ही जलाती रहे आप ..

    ReplyDelete
  4. आपकी डायरी के पन्ने से हमेशा सार्थक बातें निकल कर हम तक पहुंचती हैं।

    ReplyDelete
  5. रमाकांत जी, अमृता जी, रश्मि जी, इमरान व मनोज जी, आप सभी का हृदय से आभार !

    ReplyDelete