Thursday, June 21, 2012

जीवन सरस बनाये योग


अप्रैल २००३ 
जब हम विवेक का आश्रय लेते हैं तो योग अपने आप सधने लगता है. पहले जीवन में कर्मयोग आता है, क्योंकि हमारे कर्म तब स्वार्थ वश नहीं होते, सहज प्राप्त कर्म ही करते हैं. और सिर्फ कर्म करने के लिये कर्म न कि फल की इच्छा के लिये. निष्काम भाव से किया गया कर्म बांधता नहीं है. तब भक्ति का उदय होता है, क्योंकि हृदय यदि शुद्ध हो तभी ईश्वर की कृपा का अनुभव होता है. भक्ति से हृदय में सहज ज्ञान होने लगता है, कृष्ण ने कहा है कि वह अपने भक्त का बुद्धियोग करा देते हैं. ज्ञान हमें निर्देशित करे तो मन नियंत्रण में रहेगा. हंस की नीर-क्षीर विवेकी दृष्टि हमें तीनों तापों से बचा लेती है. तब असार को तज हम सार को ग्रहण करते हैं, व्यर्थ के चिंतन से, व्यर्थ की चर्चा से, व्यर्थ के आहार से भी सहज ही बुद्धि बचा लेती है. तब जीवन सरस व सरल होगा, कमियों को दूर करते हुए धैर्यवान और क्षमाशील बनने की ओर सहज ही प्रवृत्ति होगी.

4 comments:

  1. इमरान अंसारी has left a new comment on your post "जीवन सरस बनाये योग":

    ज्ञानवर्धक आलेख ।.....आजकल जज़्बात पर नहीं आती आप अनीता जी।

    Publish
    Delete
    Mark as spam

    Moderate comments for this blog.

    Posted by इमरान अंसारी to डायरी के पन्नों से at June 21, 2012 2:53 AM

    ReplyDelete
  2. veerubhai has left a new comment on your post "जीवन सरस बनाये योग":

    निष्काम कर्म योग सब दुखों से निजात दिलवा सकता है .निस्पृह भाव जीना सिखला सकता है .बढ़िया विचार कणिकाएं .

    Publish
    Delete
    Mark as spam

    Moderate comments for this blog.

    Posted by veerubhai to डायरी के पन्नों से at June 21, 2012 4:21 AM

    ReplyDelete
  3. ज्ञान हमें निर्देशित करे तो मन नियंत्रण में रहेगा.


    MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

    ReplyDelete
  4. इमरान, वीरू भाई व धीरेन्द्र जी, बहुत बहुत अभिनन्दन व आभार !

    ReplyDelete