Saturday, April 13, 2013

प्रेम मयी आनंद मयी.....


जुलाई २००४ 
कभी-कभी बादल बरसते हैं तो बरसते ही चले जाते हैं, न जाने कितने हजार युगों से बादल बरस रहे हैं, पुनः पुनः जल, धरा से गगन में उठता है, गिरता है. पुनः पुनः वृक्ष पनपते हैं, नष्ट होते हैं. हम भी न जाने इस धरा पर कितनी बार आ चुके हैं. एक बार और आए हैं, और स्वयं का परिचय हमें मिला है, पिछले जन्म में भी हो सकता है किसी ने हमें यह मार्ग बताया हो, पर हमने यह न चुना हो. इस जन्म में हमने परमात्मा को अपने रहबर माना है. वह हमारे हृदय की ग्रंथियों को काट रहे हैं. कोई राग-द्वेष नहीं है, चाह नहीं है, उसके प्रेम ने अंतर को ऐसा भर दिया है कि और कुछ भी भरने की जगह नहीं है. हम आत्मनिष्ठ होकर जीना सीख गए हैं. आत्मा पूर्णकाम है, वह  आनन्दपूर्ण है, शांतिमयी और सुखमयी है, वह है, वह सहज है, झरने की तरह, पंछी की तरह, फूल की तरह और नन्हे बच्चे की तरह, उसे कोई अपेक्षा नहीं, उसके हृदय में उपेक्षा भी नहीं, वह जैसी भी परिस्थिति आये सहज रूप से व्यवहार करती है, वह प्रेमिल है, वह सूर्य की भांति सारे शरीर को प्रकाशित करती है. वह हमें चेतना से भर देती है. अपार ऊर्जा का भंडार है उसके पास. उससे मिलकर ही दर्शन होता है, अनंत का दर्शन.

8 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (14-04-2013) के चर्चा मंच 1214 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. उससे मिलकर ही दर्शन अनंत होता है,आभार अनीता जी,,,,
    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्तुति
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    ReplyDelete
  4. नवरात्रों की बहुत बहुत शुभकामनाये
    आपके ब्लाग पर बहुत दिनों के बाद आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ
    बहुत खूब बेह्तरीन !शुभकामनायें
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    मेरी मांग

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया प्रस्तुति अनीता जी आप इतना गहरा कैसे सोच लेती हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेश जी, यह सब सद्गुरु की कृपा है...उनकी ध्यान विधि से भीतर स्वयं ही भाव उमड़ते हैं..जैसे कोई लिखवा रहा हो.

      Delete