Friday, April 19, 2013

समता का सूत्र



संत कहते हैं कि हम जब तक पांच स्कन्धों को अपना मानते हैं तब तक मुक्त नहीं हो सकते, सर्व प्रथम यदि हम देह को ‘मेरा’ अथवा ‘मैं’ मानते हैं तो कोई न कोई कष्ट उसे होगा और हम विचलित हो जायेंगे. दूसरा है मन, मन के चार भाग हैं, विज्ञान, संज्ञा, अनुभव और प्रतिक्रिया. किसी घटना को जब हम देखते हैं तो वह विज्ञान हुआ उसे पहचानना संज्ञा, वह सुखद है अथवा दुखद इसे जानना अनुभव है, तथा अनुकूल या प्रतिकूल संवेदना जगाना ही प्रतिक्रिया करना हुआ. मन के ये चारों भाग अपना-अपना काम करते हैं, यह उनका स्वभाव है, हमें इस स्वभाव को पलटना है, उसके साथ अपने एकता नहीं दिखानी, अन्यथा ऊपर-ऊपर से लगेगा कि हम सुख-दुःख से ऊपर हो गए, भीतर भेदभाव अब भी है. द्रष्टा होकर जगत को प्रतिक्षण बदलने वाला जानकर हम निरपेक्ष रह सकते हैं. जब भीतर तटस्थ रहना आ जायेगा तब हम बाहर भी समता को धारण कर सकेंगे.  

4 comments:

  1. Replies
    1. धीरेन्द्र जी, स्वागत !

      Delete
  2. निमित्त बन ट्रस्टी भाव से कर्म करना है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीरू भाई, सही कहा है आपने...

      Delete