Wednesday, February 20, 2019

खुद से एक हुआ जो साधक


२१ फरवरी २०१९ 
ब्रह्मांड से एकत्व की अनुभूति साधक का लक्ष्य है और स्वयं से एकत्व पहला कदम है. स्वयं से जुड़े बिना यह सम्भव ही नहीं हो सकता कि हम जगत से जुड़ा हुआ महसूस करें. आज समाज में जो बिखराव और संबंधों में दूरियां नजर आ रही हैं इसका कारण है मानव खुद से ही दूर होता जा रहा है. प्रदर्शन और विज्ञापन के इस युग में हर कोई कृत्रिमता को अपना रहा है. सत्य और समर्पण जैसे मूल्य उसके जीवन से विस्थापित हो गये हैं. जो लोग एक स्थान पर टिके रहकर काम नहीं कर सकते, संस्था और व्यक्तियों के प्रति उनके मन में लगाव या निष्ठा ही जन्म नहीं ले पाती. परिवर्तन तो संसार का नियम ही है, लेकिन लोग हर कहीं इतनी शीघ्रता से बदलाव कर रहे हैं कि स्वयं के भीतर जाकर अपने उस मूल स्वभाव को जान ही नहीं पाते जो सदा एक सा है. ध्यान और योग के द्वारा हमें पहला कदम उठाना है और शेष प्रकृति व उसके नियंता के हाथों में छोड़ देना है. इस मार्ग पर चलना आरम्भ करते ही मंजिल से खबर आने ही लगती है.

3 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  2. सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete